HomeAdivasi Dailyझारखंड में आदिवासी सीटों पर हार के बाद बीजेपी बांग्लादेशी घुसपैठ को...

झारखंड में आदिवासी सीटों पर हार के बाद बीजेपी बांग्लादेशी घुसपैठ को मुद्दा बना रही है

झारखंड में बीजेपी एक ऐसे मुद्दे की तलाश में है जो आदिवासियों से जुड़ता है. इस सिलसिले में बीजेपी बांग्लादेशी घुसपैठ को मुद्दा बनाने की कोशिश में नज़र आ रही है.

झारखंड विधानसभा चुनाव से पहले भारतीय जनता पार्टी (BJP) नेता ‘बांग्लादेशी घुसपैठियों’ और संथाल परगना में जनसांख्यिकी परिवर्तन का मुद्दा उठा रहे हैं. उनका आरोप है कि सरकार ने इस क्षेत्र में आदिवासियों को हाशिये पर धकेल दिया है.

दरअसल आम चुनावों में आदिवासी सीटों पर मिली करारी हार से बीजेपी परेशान है. इसने हेमंत सोरेन के नेतृत्व वाली झामुमो-कांग्रेस सरकार को घुसपैठियों की पहचान करने और उन्हें वापस भेजने के लिए कार्ययोजना तैयार करने के लिए तत्काल कदम उठाने का निर्देश दिया है.

जून के आखिरी सप्ताह में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष बाबूलाल मरांडी ने कहा था कि संथाल परगना क्षेत्र में आदिवासियों की जनसंख्या निरंतर घटना एंव मुसलमानों की जनसंख्या में अप्रत्याशित वृद्धि “खतरे की घंटी” है.

मई के आखिरी सप्ताह में दुमका में एक लोकसभा चुनाव रैली में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने झामुमो-गठबंधन पर “घुसपैठियों को बढ़ावा देने” का आरोप लगाया था, जो आदिवासी महिलाओं को निशाना बना रहे थे.

झारखंड में नवंबर-दिसंबर में चुनाव होंगे, जहां 81-सदस्यीय विधानसभा में एसटी के लिए 28 सीटें आरक्षित हैं. इनमें से 18 सीटें संथाल परगना में हैं. 2019 में भाजपा ने इनमें से  सिर्फ चार सीटें जीती थीं.

हाल ही में हुए लोकसभा चुनावों में झामुमो ने संथाल परगना की दुमका और राजमहल दोनों एसटी सीटें जीती थीं, जबकि भाजपा के निशिकांत दुबे ने लगातार चौथी बार गैर-आरक्षित सीट गोड्डा जीती थी.

दुमका, साहिबगंज, गोड्डा, जामताड़ा, पाकुड़, देवगढ़ जिलों से मिलकर बना संथाल परगना डिवीजन झारखंड के पूर्वी और पूर्वोत्तर हिस्सों को बनाता है और पश्चिम बंगाल के साथ अपनी सीमा साझा करता है.

इस क्षेत्र का एक बड़ा हिस्से पर संथाल आदिवासियों और मुसलमानों का वर्चस्व है, जबकि ओबीसी, एससी की भी अच्छी खासी आबादी है.

इस बीच सामाजिक कार्यकर्ता डेनियल दानिश ने झारखंड हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की थी, जिसमें पिछले कुछ वर्षों में संथाल परगना में जनसांख्यिकी में आए बदलाव को उजागर किया गया था.

याचिकाकर्ता के वकील राजीव कुमार ने कहा कि अदालत को बताया गया कि कैसे घुसपैठ ने जनसांख्यिकी को बदलना शुरू कर दिया है और गरीब आदिवासियों के अस्तित्व के लिए खतरा पैदा कर दिया है.

वकील ने बताया कि सरकार को दो सप्ताह के भीतर हलफनामा दाखिल करने को कहा गया है और संथाल परगना के सभी छह उपायुक्तों को घुसपैठियों की पहचान करने और उन्हें निर्वासित करने के लिए कार्ययोजना तैयार करने का आदेश दिया गया है.

मामले की सुनवाई 18 जुलाई को फिर होगी.

राजनीति या चिंता का कारण?

संथाल परगना में आदिवासियों की तेज़ी से घटती जनसंख्या पर चिंता जताते हुए भाजपा के बाबूलाल मरांडी ने कहा कि 1951 में आदिवासियों की आबादी 44.69 प्रतिशत थी, जो 2011 में 16 प्रतिशत घटकर 28.11 प्रतिशत रह गई.

उन्होंने 30 जून को दुमका में कहा, “इस दौरान मुस्लिम आबादी 9.44 से बढ़कर 22.73 प्रतिशत हो गई. संथाल परगना के साहिबगंज और पाकुड़ जिले की स्थिति बद से बदतर होती जा रही है. सरकार को इस गंभीर मामले की ज़मीनी स्तर पर जांच के लिए एसआईटी गठित करनी चाहिए.”

संथाल परगना एसटी मोर्चा के भाजपा संयोजक रवींद्र टुडू ने आरोप लगाया कि घुसपैठिए आदिवासियों की मासूमियत का फायदा उठा रहे हैं.

वहीं राजमहल के भाजपा विधायक अनंत ओझा ने मुख्य निर्वाचन अधिकारी को 28 जून को एक ज्ञापन सौंपकर पश्चिम बंगाल की सीमा से लगे कई “संवेदनशील” मतदान केंद्रों में मतदाताओं की संख्या में वृद्धि की उच्च स्तरीय जांच की मांग की.

ओझा ने इस मामले में साहिबगंज जिले के डिप्टी कमिश्नर-कम-रिटर्निंग इलेक्शन ऑफिसर का ध्यान भी आकर्षित किया था.

जबकि विपक्ष के नेता अमर कुमार बाउरी ने दावा किया कि सरकार संथाल परगना में आदिवासियों को “खत्म” करने पर तुली हुई है.

राजमहल और पाकुड़ विधानसभा क्षेत्र राजमहल संसदीय क्षेत्र का हिस्सा हैं. राजमहल में मतदाताओं की संख्या 2019 में 3,01,353 से बढ़कर 2024 में 3,44,446 हो गई.

इसी तरह पाकुड़ में मतदाताओं की संख्या 3,20,132 से बढ़कर 3,76,403 हो गई. कुल मिलाकर, 2024 के आम चुनावों में 2,18,946 अतिरिक्त मतदाता होंगे.

जामताड़ा से कांग्रेस विधायक इरफान अंसारी ने विपक्षी दल द्वारा उठाए गए मुद्दों पर सवाल उठाया.

उनका कहना है कि घुसपैठिए कौन हैं और कहां हैं? भाजपा केवल विभाजन पैदा करना चाहती है. कोई भी आरोप लगाने से पहले भाजपा को केंद्र से घुसपैठियों के प्रवेश को रोकने के लिए कहना चाहिए. यह (मामला) केंद्र सरकार के अधिकार क्षेत्र में है.

2 जुलाई को राष्ट्रपति के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर बहस में हिस्सा लेते हुए भाजपा सांसद निशिकांत दुबे ने झारखंड सरकार पर वोट बैंक की राजनीति के लिए बांग्लादेशी घुसपैठियों को शरण देने का आरोप लगाया और पाकुड़ के गोपीनाथपुर गांव में हुई झड़पों को उजागर किया.

दरअसल, पश्चिम बंगाल की सीमा पर स्थित गोपीनाथपुर गांव में 17 जून (ईद-उल-अजहा) को झड़प हुई थी, जिसमें पड़ोसी राज्य के उपद्रवियों ने कथित तौर पर तोड़फोड़, आगज़नी और बमबाजी की थी.

भीड़ को नियंत्रित करने के लिए बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात किया गया था. फिलहाल सीमावर्ती गांव में पुलिस गश्त जारी है.

21 जून को बौरी के नेतृत्व में भाजपा के चार विधायकों का एक दल स्थिति का जायजा लेने गांव पहुंचा था और 25 जून को एक प्रतिनिधिमंडल ने राज्यपाल सी.पी. राधाकृष्णन से इस प्रकरण की उच्चस्तरीय जांच के आदेश देने का आग्रह किया था.

जाहिर है कि भाजपा बांग्लादेशी घुसपैठियों का मामला चुनाव में जोरदार तरीके से उठाएगी. जिस तरह के मामले सामने आ रहे हैं, उससे साफ पता चलता है कि आने वाले समय में संथाल परगना के लिए यह चिंता का विषय बनता जा रहा है. सामाजिक ताने-बाने में बदलाव के साथ-साथ इसका असर राजनीति में भी देखने को मिल रहा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Comments