सेंटिनली दुनिया में बाहरी दख़ल, उनके लिए है मौत का फ़रमान

0
68

नवबंर 2018 में एक अमरिकी मिशनरी नॉर्थ सेंटिनल द्वीप पर रहने वाले आदिवासियों के बीच ईसाई धर्म प्रचार के लिए पहुंच गए. ये आदिवासी इस द्वीप के आस-पास भी किसी को आने नहीं देते हैं. अगर कोई इनके आस-पास भी आने की कोशिश करता है तो ये उस पर तीर बरसा देते हैं.

जॉन ऐलन चाउ नाम का यह मिशनरी भी इन आदिवासियों के हाथों मारा गया था. लेकिन मारे जाने से पहले उसने अपनी डायरी में इन आदिवासियों के बारे में कुछ जानकारियां दर्ज की थीं. क्योंकि मारे जाने से पहले यह उस द्वीप पर कुछ समय बिताने में कामयाब रहा था.

अब एंथ्रोपोलोजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया ने सुझाव दिया है कि इस मिशनरी की यह डायरी एक अहम एंथ्रोपोलोजिकल डॉक्युमेंट हो सकती है. दरअसल एंथ्रोपोलोजिकल सर्वे ऑफ़ इंडिया ने एक पॉलिसी डॉक्युमेंट तैयार किया है जिसमें इन आदिवासियों से जुडे़ कई नीतिगत सुझाव दिए गए हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here