मदुरै: आदिवासी बच्चों की पढ़ाई में मदद करेगा ये सोलर डिजिटल प्रोजेक्ट

दिव्य प्रेरणा फाउंडेशन, सेल्को इंडिया और विश टू हेल्प चैरिटेबल ट्रस्ट की संयुक्त पहल के चलते ये परियोजना शुरू हुई है. इस परियोजना का उद्घाटन मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के संचार विभाग के प्रमुख प्रोफेसर एस नागराथिनम ने किया.

0
149

आदिवासी परिवारों के बच्चों के लाभ के लिए एक सौर ऊर्जा संचालित डिजिटल शिक्षा परियोजना का उद्घाटन बुधवार को जेजे नगर, मदुरै में काट्टु नायकन (Kaatu Nayakan) आदिवासी सामुदायिक केंद्र में किया गया.

बच्चों को वीडियो पाठ के साथ सीखने में मदद करने के लिए लगभग 30 आदिवासी परिवारों को उनके घरों के लिए सौर ऊर्जा से चलने वाली रोशनी और मोबाइल फोन चार्जर के साथ-साथ उनके सामुदायिक हॉल में एक स्मार्ट टीवी उपलब्ध कराया गया है. पूरी तरह से सौर ऊर्जा से चलने वाले स्मार्ट टीवी से 80 से अधिक आदिवासी बच्चों को फायदा होगा.

दिव्य प्रेरणा फाउंडेशन, सेल्को इंडिया और विश टू हेल्प चैरिटेबल ट्रस्ट की संयुक्त पहल के चलते ये परियोजना शुरू हुई है. इस परियोजना का उद्घाटन मदुरै कामराज विश्वविद्यालय के संचार विभाग के प्रमुख प्रोफेसर एस नागराथिनम ने किया.

सेल्को इंडिया के वरिष्ठ प्रबंधक, एस नंबीराजन ने कहा, “काट्टु नायकन जनजाति के लोग भविष्य की भविष्यवाणी करने के अपने पेशे के लिए जानी जाती है और वे बहुत यात्रा भी करते हैं. यहां रहने वाले लोग बिना बिजली के जीवन यापन कर रहे हैं. कोविड -19 महामारी के कारण बच्चे बहुत प्रभावित हुए क्योंकि वे स्कूल नहीं जा सकते थे या उनके पास ऑनलाइन कक्षाओं में भाग लेने का साधन नहीं था.”

नंबीराजन ने कहा, “विश टू हेल्प चैरिटेबल ट्रस्ट के स्वयंसेवक आदिवासी बच्चों को सीखने में मदद कर रहे हैं और अब स्मार्ट टीवी का उपयोग करके भी पढ़ाएंगे. स्मार्ट टीवी के माध्यम से कल्वी थोलाईकाची वीडियो पाठ, दीक्षा ऐप आदि को इंटरनेट कनेक्टिविटी के माध्यम से एक्सेस किया जा सकता है और छात्र अपना पाठ सीखने में सक्षम होंगे.”

दिव्य प्रेरणा फाउंडेशन के संस्थापक और प्रबंध न्यासी वी पार्थसारथी, विश टू हेल्प चैरिटेबल ट्रस्ट के प्रबंध न्यासी पीआर विश्वनाथ ने भी भाग लिया.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here