दुमका, लोहरदगा और अब खूंटी! झारखंड में एक और आदिवासी नाबालिग से दुष्कर्म

पिछले 10 दिनों के भीतर झारखंड में नाबालिग बच्चियों के साथ दुष्कर्म की तीन घटनाएं सामने आ चुकी है. तीसरा मामला खूंटी जिले के कर्रा थाना क्षेत्र से सामने आया है. यहां एक नाबालिग लड़की के यौन शोषण के आरोप में नाबालिग लड़के को गिरफ्तार किया गया है.

1
32

झारखंड में एक और आदिवासी नाबालिग बच्ची के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. खूंटी के जरियागढ़ इलाके में दसवीं की 15 वर्षीय छात्रा से दुष्कर्म का मामला है. इस घटना को लेकर एक तरफ सोशल मीडिया पर आरोप प्रत्यारोप शुरू हो गया है, वहीं दूसरी ओर ने पुलिस ने पीड़ित बच्ची के परिजनों की शिकायत पर केस दर्ज कर आरोपी को हिरासत में ले लिया है.

हाल में आए अन्य मामलों की तरह इस मामले में भी आरोपी ने पीड़िता से फोन पर पहले दोस्ती की और फिर झांसे में लेकर दुष्कर्म को अंजाम दिया. वहीं जब पीड़िता गर्भवती हुई तो मामले का खुलासा हुआ.

खूंटी के एसपी अमन कुमार ने बताया कि जरियागढ़ थाना क्षेत्र में रहने वाली नाबालिग के परिजनों की ओर से शिकायत दर्ज कराई गई है. इसमें बताया गया है कि आरोपी लड़के ने कहीं से लड़की का मोबाइल नंबर हासिल कर उसे फोन करना शुरू कर दिया. बाद में ऑनलाइन बातचीत का सिलसिला शुरू हुआ और ऑफलाइन मुलाकात में बदल गया. इसके बाद नाबालिग प्रेमी ने एक दिन जबरन लड़की को स्कूल के पास एक सुनसान जगह में ले जाकर शारीरिक संबंध बनाया.

नाबालिग को स्वयं के गर्भवती होने की जानकारी नहीं थी. लेकिन अचानक एक दिन परिजनों को शक हुआ तो डॉक्टर के पास इलाज के लिए ले गए, तब डॉक्टर ने चार महीने के गर्भ की रिपोर्ट बताई. आनन-फानन में परिजनों ने संबंधित थाने में मामला दर्ज कराया.

लिखित शिकायत दर्ज होने के बाद जरियागढ़ थाना प्रभारी ने प्राथमिकी दर्ज करने के साथ ही तुरंत कार्रवाई करते हुए लड़के को गिरफ्तार कर कोर्ट में पेश किया, जहां से उसे बाल सुधार गृह भेज दिया गया. आरोपी भी नाबालिग है.

वहीं, पीड़िता और आरोपी के अलग-अलग धर्म होने के बाद इसे राजनीतिक रंग भी देने की कोशिश शुरू हो गई है. बीजेपी ने इसे लव जिहाद का मुद्दा बताते हुए सरकार को घेरने की कोशिश कर रही है.

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने ट्विट किया, “खूंटी ज़िले के कर्रा प्रखंड में एक और 15 वर्षीया नाबालिग आदिवासी युवती के लव जिहाद का शिकार होने की घटना से मन विचलित है. पुलिस ने यौन शोषण कर बच्ची को गर्भवती करने के आरोपी को भी नाबालिग बता गिरफ़्तारी के बाद राँची के सुधार गृह भेज दिया है. इस तरह लव जिहादी बाढ़ से तो झारखंड में आदिवासियों का अस्तित्व ही समाप्त हो जाएगा. लेकिन तुष्टिकरण के पैरों तले दबे हमारे मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन जी को ऐसी लोमहर्षक घटनाएँ भी सामान्य बात दिखती है. भगवान इन्हें थोड़ी सदबुद्धि दे दे.”

इसके साथ ही बीजेपी के कई अन्य नेताओं ने इस घटना को लेकर झारखंड सरकार और पुलिस को घेरने का प्रयास किया है. बीजेपी के प्रदेश प्रवक्ता प्रतुल शाहदेव ने इस घटना को हेमंत सोरेन सरकार के दौर में तुष्टीकरण का दुष्परिणाम बताया.

इस घटना को लेकर बीजेपी के गोड्डा सांसद निशिकांत दूबे ने किया, “झारखंड में ग्रूमिंग गैंग का अभी अभी एक कारनामा खूंटी जि़ले से मिला. 15 साल की आदिवासी लड़की का फखरुद्दीन ने बलात्कार किया. लड़की गर्भवती हुई तो जबरन धर्मांतरण का दबाव बनाया. इस्लामीकरण की ओर बढ़ता हमारा राज्य.”

पिछले 10 दिनों में इस तरह का ये तीसरा मामला है. इसके पहले दुमका और लोहरदगा से भी दो ऐसी ही घटनाएं सामने आई हैं. दुमका में आदिवासी लड़की के यौन शोषण के बाद उसकी हत्या के आरोप में अरमान अंसारी और लोहरदगा में यौन शोषित लड़की को कुएं में धकेलकर उसे पत्थर से कुचलने की कोशिश की घटना में रब्बानी अंसारी को गिरफ्तार कर जेल भेजा गया है.

1 COMMENT

  1. Jharkhand me adiwasi k sath abhi tisri ghatna samne aayi h jisme aropi muslim h…is tarah ki ghatna aadiwasi k liye kharab sanket h ham logo ko ekjut ho kr aaropi k khilap action lena hoga…

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here