तेलंगाना के आदिवासी स्कूल में परोसा गया सड़ा खाना, 450 छात्रों ने निकाली विरोध रैली

एक छात्र एन. शंकर ने कहा कि उन्होंने हानिकारक और स्वास्थ्य के लिए ख़तरनाक भोजन के संबंध में प्रिंसिपल से संपर्क किया था लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि कोई भी अधिकारी उन्हें केवल स्वस्थ भोजन परोसने की जिम्मेदारी नहीं ले रहा है.

0
160

तेलंगाना के खम्मम जिले के एक आदिवासी स्कूल में छात्रों को सड़ा खाना परोसा गया. जिसके बाद छात्रों ने विरोध रैली निकाल दी. दरअसल माधिरीपुरम के गिरिजन आवासीय विद्यालय के लगभग 450 छात्रों ने बुधवार को राष्ट्रीय राजमार्ग पर तिरुमलयापलेम मंडल मुख्यालय तक एक विरोध रैली निकाली.

छात्रों ने आरोप लगाते हुए कहा कि उन्हें सड़ा हुआ भोजन परोसा जा रहा है जिससे उन्हें एक बड़े स्वास्थ्य ख़तरे की आशंका है. छात्रों ने कहा कि वे उन्हें परोसे जाने वाले भोजन की स्थिति को उजागर करने के लिए सड़कों पर उतरे थे. क्योंकि अधिकारियों ने उनकी शिकायतों का कोई जवाब नहीं दिया था.

राष्ट्रीय राजमार्ग पर रैली के बारे में जानने के लिए कुछ अधिकारी मौके पर पहुंचे और छात्रों को आश्वासन दिया कि उनकी चिंताओं का समाधान किया जाएगा. पुलिस अधिकारियों ने छात्रों को आगाह किया कि राष्ट्रीय राजमार्ग पर रैली करना उनके लिए ख़तरा है.

इसके बाद सभी छात्र वापस स्कूल चले गए. मंडल राजस्व अधिकारी पुलैया और उपनिरीक्षक श्रीनिवास तुरंत स्कूल पहुंचे.

एक छात्र एन. शंकर ने कहा कि उन्होंने हानिकारक और स्वास्थ्य के लिए ख़तरनाक भोजन के संबंध में प्रिंसिपल से संपर्क किया था लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ. उन्होंने कहा कि कोई भी अधिकारी उन्हें केवल स्वस्थ भोजन परोसने की जिम्मेदारी नहीं ले रहा है.

किसी एक छात्र की माता के. सुनीता ने कहा कि उनके बच्चे अक्सर कीड़े-मकोड़े वाला खाना खाने के बाद पेट दर्द की शिकायत करते हैं.

वहीं आदिवासी कल्याण विभाग के उप निदेशक कृष्ण नाईक ने स्कूल का दौरा किया और छात्रों की समस्याओं का जायजा लिया.

(इस स्टोरी में इस्तेमाल की गई तस्वीर झारखंड के एक गाँव की है. यहाँ पर प्रतीक के तौर पर ही यह तस्वीर इस्तेमाल की गई है)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here