आदिवासी गर्भवती महिलाओं के लिए एजेंसी में शुरू होंगे शेल्टर होम- ITDA परियोजना अधिकारी

ITDA परियोजना अधिकारी ने कहा कि एजेंसी में आदिवासी गर्भवती महिलाओं के लिए शेल्टर होम शुरू किए जा रहे हैं. पहले शेल्टर होम का उद्घाटन 29 दिसंबर को मुंचिंगपुट्टु में किया जाएगा. जनवरी में दूसरा शेल्टर होम डुम्ब्रीगुडा में शुरू किया जाएगा.

0
189

एकीकृत आदिवासी विकास एजेंसी (ITDA) के परियोजना अधिकारी आर गोपाल कृष्ण ने कहा कि स्वास्थ्य विभाग को बेहतर सेवाएं प्रदान करनी चाहिए और यह सुनिश्चित करना चाहिए कि एजेंसी किसी भी मातृ मृत्यु की रिपोर्ट न करे. उन्होंने बुधवार को पडेरू में एजेंसी के 11 मंडलों के कर्मचारियों के साथ समीक्षा बैठक की.

आर गोपाल कृष्ण ने कहा कि चिकित्सा अधिकारी यह अवश्य देखें कि गर्भवती महिलाओं का प्रसव घरों में नहीं अस्पतालों में ही हो. स्टाफ को प्रसव की अनुमानित तारीख से कम से कम एक सप्ताह पहले गर्भवती महिला को नजदीकी अस्पतालों में शिफ्ट करना चाहिए. उन्होंने अधिकारियों से यह भी जांचने को कहा कि क्या सभी अस्पतालों में दवाओं का भंडार है और कहीं कोई कमी तो नहीं है.

उन्होंने कहा कि एजेंसी में आदिवासी गर्भवती महिलाओं के लिए शेल्टर होम शुरू किए जा रहे हैं. पहले शेल्टर होम का उद्घाटन 29 दिसंबर को मुंचिंगपुट्टु में किया जाएगा. जनवरी में दूसरा शेल्टर होम डुम्ब्रीगुडा में शुरू किया जाएगा.

आईटीडीए परियोजना अधिकारी ने कहा कि पिछले वर्षों की तुलना में मौसमी बीमारियों में कमी आई है. उन्होंने अधिकारियों को आश्रम स्कूलों में सभी छात्रों का स्वास्थ्य परीक्षण करने के भी निर्देश दिए. उन्होंने अधिकारियों को एजेंसी में टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने के निर्देश दिए.

(तस्वीर प्रतिकात्मक है)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here