त्रिपुरा को मिली पैकेज की पहली किस्त, आदिवासी इलाक़ों में होगा विकास- बिप्लब देव

बिप्लब देब ने दावा किया है कि मैंने त्रिपुरा में स्थायी रूप से बसे हजारों ब्रू लोगों की आजीविका का मुद्दा उठाया और केंद्रीय गृह मंत्री को काम की प्रगति और अब तक क्या बचा है से अवगत कराया.

0
323

त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देब ने रविवार को कहा कि केंद्रीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण की पहली त्रिपुरा यात्रा की घोषणा के एक हफ्ते बाद केंद्र ने राज्य को 493 करोड़ रुपये के पैकेज की पहली किस्त जारी की है.

दरअसल एक हफ्ते पहले निर्मला सीतारमण ने आदिवासी क्षेत्रों और त्रिपुरा के मूल निवासियों के विकास के लिए 1,300 करोड़ रुपये के विशेष पैकेज की घोषणा की थी. मुख्यमंत्री ने कहा कि सीतारमण विशेष रूप से आदिवासियों के विकास के लिए त्रिपुरा सरकार की पहल से प्रभावित हैं.

मुख्यमंत्री ने दावा किया कि केंद्र के पैकेज का लक्ष्य आदिवासी क्षेत्रों की स्वदेशी आजीविका और बुनियादी ढांचे के विकास को बढ़ावा देना था और पहली किस्त में जारी की गई राशि को विशिष्ट परियोजनाओं पर खर्च किया जाएगा.

केंद्र के इस पहल की सराहना करते हुए बिप्लब देब ने कहा कि वित्त मंत्री की त्रिपुरा यात्रा के दौरान उनके मंत्रालय ने पिछले सप्ताह 21 करोड़ रुपये की दो परियोजनाओं को मंजूरी दी थी. जिसमें 14.15 करोड़ रुपये की लागत से राज्य के राजमार्गों को चौड़ा करना और बुनियादी ढांचे के रखरखाव के लिए 7.4 करोड़ रुपये शामिल हैं.

बिप्लब देव ने साथ ही कहा कि गुवाहाटी में महामारी की स्थिति और टीकाकरण की समीक्षा के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया ने त्रिपुरा के लिए 93.02 करोड़ रुपये की राशि जारी की है. जबकि केंद्रीय ग्रामीण विकास मंत्री गिरिराज सिंह ने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत 1.59 लाख घरों को मंजूरी दी है.

उन्होंने कहा कि केंद्र उन सभी ब्रू विस्थापित परिवारों को लाने के लिए सहमत हो गया है जिन्हें पिछली आर्थिक जनगणना के आधार पर अंत्योदय अन्न योजना के तहत त्रिपुरा के 14 चयनित स्थानों में पुनर्स्थापित किया जा रहा था. जहां 37,136 में से कुल 6,959 ब्रू परिवारों को लाभ देने के लिए विचार किया जा रहा था.

बिप्लब देब ने दावा किया है कि मैंने त्रिपुरा में स्थायी रूप से बसे हजारों ब्रू लोगों की आजीविका का मुद्दा उठाया और केंद्रीय गृह मंत्री को काम की प्रगति और अब तक क्या बचा है से अवगत कराया. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here