आदिवासी बच्चों की शिक्षा के लिए वन अधिकारी बने उम्मीद की किरण

डब्ल्यूडब्ल्यूएस के सहायक वन्यजीव वार्डन एस रंजीत कुमार ने कहा कि हालांकि अधिकारियों ने पहले बच्चों की पढ़ाई के लिए एक टेलीविजन सेट और डिश एंटीना उपलब्ध कराया था. लेकिन अध्ययन कक्ष की अनुपस्थिति के कारण वे इसका उपयोग नहीं कर सके.

0
157

जनजातीय विभाग के सामुदायिक अध्ययन केंद्रों की सीमित संख्या और वायनाड जिले के आदिवासी बस्तियों में जिला पंचायत के अध्ययन कक्षों ने महामारी के दौरान आदिवासी बच्चों की शिक्षा में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है.

लेकिन कदंबक्कड़ जैसे दूरदराज के कई गांवों में ऐसी सुविधाएं आदिवासी बच्चों की पहुंच से बहुत दूर थीं. वायनाड वन्यजीव अभयारण्य (WWS) के अंदर एक विशेष रूप से कमजोर आदिवासी समूह (PVTG) कट्टुनायक्कन जनजाति का गांव, पास के शहर कल्लूर से लगभग 6 किलोमीटर दूर स्थित है.

हालांकि अब इस हैमलेट के निवासी भी बहुत खुश हैं क्योंकि वे भी वन अधिकारियों के एक समूह द्वारा समय पर उचित कदम उठाने से इस तरह की सुविधा का लाभ उठाने में सक्षम हैं.

वन परिक्षेत्र में 26 परिवारों के कक्षा 1 से 10 तक के 24 छात्रों सहित 60 सदस्य निवास कर रहे हैं. डब्ल्यूडब्ल्यूएस के सहायक वन्यजीव वार्डन एस रंजीत कुमार ने कहा कि हालांकि अधिकारियों ने पहले बच्चों की पढ़ाई के लिए एक टेलीविजन सेट और डिश एंटीना उपलब्ध कराया था. लेकिन अध्ययन कक्ष की अनुपस्थिति के कारण वे इसका उपयोग नहीं कर सके.

उन्होंने कहा कि जब गांव के निवासियों ने इको डेवलपमेंट कमेटी (EDC) के समक्ष अपनी उचित मांग उठाई, तो हमने इस उद्देश्य के लिए एक अस्थायी शेड बनाने का फैसला किया.

इस बीच, जूनियर चैंबर इंटरनेशनल, कोझीकोड चैप्टर ने इस उद्देश्य के लिए एक इमारत बनाने की इच्छा व्यक्त की और इसे वन अधिकार अधिनियम के अनुसार कदंबक्कड़ ईडीसी के माध्यम से अमल में लाया गया.

एस रंजीत कुमार ने कहा, “जब कुछ दिन पहले इमारत खोला गया था तो हमने अध्ययन केंद्र को 75 लाख रुपए का फर्नीचर उपलब्ध कराया था.”

वार्डन एस. नरेंद्र बाबू ने कहा, “बच्चों को उनकी पढ़ाई में मदद करने के लिए अनुभाग वन अधिकारियों और बीट वन अधिकारियों की सेवाएं प्रदान की जा रही हैं.”

नरेंद्र बाबू ने कहा कि पिछले साल कम से कम छह बच्चों ने एसएसएलसी परीक्षा उत्तीर्ण की थी. उन्होंने कहा कि सेवाएं जारी रहेंगी और पीएससी परीक्षाओं के लिए कोचिंग इसी सप्ताह शुरू होगी. उन्होंने बताया कि एक लाइब्रेरी भी स्थापित की जाएगी.  

(Image Credit: The Hindu)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here