भुवनेश्वर के आदिवासी इलाकों में दो आवासीय मॉडल स्कूलों की रखी गई नींव

वहीं कंधमाल जिले के लिए केंद्र ने आठ ईएमआरएस मंजूर किए हैं. ये स्कूल फूलबनी, कोटागढ़, सारंगगा, खजूरीपाड़ा, तुमुदीबंध, जी उदयगिरि, रायकिया और दरिंगबाड़ी में स्थापित किए जाएंगे. हालांकि वर्तमान में, के नुआगांव ब्लॉक के मासिंगी और फिरिंगिया में दो ईएमआरएस काम कर रहे हैं.

0
146

केंद्रीय आदिवासी मामलों के राज्य मंत्री, बिश्वेश्वर टुडू ने सोमवार को कंधमाल और गजपति जिलों में दो एकलव्य मॉडल आवासीय विद्यालयों (EMRS) की नींव रखी.

ये स्कूल कंधमाल जिले के तुमुदीबांधा ब्लॉक के मुंडीगड़ा गांव में और गजपति जिले के गुम्मा ब्लॉक के बडीगांव में स्थापित किए जाएंगे. इनमें से प्रत्येक आवासीय विद्यालय को छठी से बारहवीं कक्षा तक के 420 आदिवासी छात्र मिलेंगे.

गजपति जिले के लिए केंद्र ने गुम्मा, नुआगड़ा, रायगडा और आर उदयगिरि ब्लॉक में चार आवासीय मॉडल स्कूलों के निर्माण को मंजूरी दी है. पिछले साल 15 नवंबर को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने आर उदयगिरि में प्रस्तावित स्कूल की नींव रखी थी। हालांकि, सूत्रों ने कहा कि वर्तमान में जिले के मोहना ब्लॉक के चंद्रगिरि में सिर्फ एक ऐसा स्कूल चल रहा है.

वहीं कंधमाल जिले के लिए केंद्र ने आठ ईएमआरएस मंजूर किए हैं. ये स्कूल फूलबनी, कोटागढ़, सारंगगा, खजूरीपाड़ा, तुमुदीबंध, जी उदयगिरि, रायकिया और दरिंगबाड़ी में स्थापित किए जाएंगे. हालांकि वर्तमान में, के नुआगांव ब्लॉक के मासिंगी और फिरिंगिया में दो ईएमआरएस काम कर रहे हैं.

केंद्रीय मंत्री ने कंधमाल जिले के मुंडीगड़ा के पास कहा, “राज्य सरकार द्वारा इस उद्देश्य के लिए आवश्यक भूमि सौंपे जाने के बाद अन्य प्रस्तावित स्कूलों का निर्माण कार्य जल्द ही शुरू हो जाएगा.”

मंत्री ने आदिवासियों के कल्याण के लिए दोनों जिलों में लागू की जा रही केंद्रीय योजनाओं की भी समीक्षा की.

जिला कल्याण अधिकारी (कंधमाल) सीमांचल बेहरा ने कहा, “हम प्रस्तावित स्कूलों के लिए भूमि अधिग्रहण की प्रक्रिया में हैं. जबकि चार ईएमआरएस के लिए भूमि को मंजूरी दे दी गई है, अन्य को वन मंजूरी का इंतजार है.”

इसी तरह, डीडब्ल्यूओ (गजपति) संतोष रथ ने कहा कि रायगडा और नुआगड़ा में प्रस्तावित स्कूलों के लिए भूमि की पहचान की गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here