कोया आदिवासियों के मशहूर मिट्टी की दीवारों से बने घर जल्द बस एक याद बन जाएंगे

ईस्ट गोदावरी ज़िले के उलुमुरु की केला विजया ने हाल ही में मिट्टी की दीवार वाला अपना घर बनाने का सपना साकार किया था. यह घर इन आदिवासियों के लिए एक विरासत हैं, जो पीढ़ियों से इन्हें परिभाषित करते आए हैं.

0
671

पोलावरम सिंचाई परियोजना से एक पूरी आदिवासी कला ख़तरे में है. आंध्र प्रदेश सरकार द्वारा दूसरी जगहों पर शिफ़्ट किए जाने के बाद कोया आदिवासियों के मशहूर मिट्टी की दीवारों वाले घर बस  एक याद बनकर रह जाएंगे.

ईस्ट गोदावरी ज़िले के उलुमुरु की केला विजया ने हाल ही में मिट्टी की दीवार वाला अपना घर बनाने का सपना साकार किया था. यह घर इन आदिवासियों के लिए एक विरासत हैं, जो पीढ़ियों से इन्हें परिभाषित करते आए हैं.

विजया ने द हिंदू से बातचीत के दौरान कहा, “मैंने 10,000 रुपये खर्च किए हैं इस घर को बनाने के लिए. मैंने इसके लिए एक साल तक कड़ी मेहनत कर पैसा बचाया. लेकिन अब मुझे इस घर को छोड़कर जाना पड़ेगा, ऐर सरकार इसे नष्ट होने के लिए छोड़ देगी.”

पोलावरम सिंचाई परियोजना के जलमग्न क्षेत्र के अंदर फ़िलहाल रहने वाले हज़ारों कोया आदिवासियों को उनकी पैतृक ज़मीन से हटाकर, उनका पुनर्वास किया जा रहा है. वो अपनी ज़मीन के साथ-साथ अपनी पूरी जीवनशैली को छोड़ने को मजबूर हो जाएंगे.

चिंतूर एजेंसी इलाक़े की उलुमुरु की कोया बस्ती में केला विजया जैसे दूसरे आदिवासियों के लगभग 150 मिट्टी के ख़ूबसूरत घर हैं.

घरों से भावनात्मक जुड़ाव

एक दूसरी कोया महिला, गोर्रे अचम्मा ने इन घरों के बारे में बताते हुए कहा, “हमने दस साल पहले अपना मिट्टी की दीवार वाला घर बनाया था. इसमें मरम्मत की ज़रूरत नहीं है, और यह अभी भी मज़बूत है. जब तक दीवारों को गाय के गोबर से लेपा जाता रहेगा, तब तक मरम्मत की ज़रूरत नहीं पड़ती. घर की लंबी उम्र छत और खंभों को बनाने के लिए इस्तेमाल की जाने वाली लकड़ी की गुणवत्ता पर भी निर्भर करती है.”

इन आदिवासियों का अपने इन घरों पर कितना गर्व है वो इस बात से पता चलता है जब वो कहते हैं कि घर बनाने के आधुनिक तरीक़े इनकी तुलना नहीं कर सकते. यह आदिवासी जानते हैं कि सरकार द्वारा बनाए जाने वाले नए मकान इनकी पसंद के नहीं होंगे.

इन्हें दुख है कि जल्दी ही इनकी शिफ़्टिंग का काम शुरु हो जाएगा, और इनके यह ख़ूबसूरत मकान बस अतीत की एक याद बन जाएंगे.

अचम्मा की बेटी मीना ने अखबार को बताया, “हमारे समुदाय की महिलाओं का अपने घर के साथ एक गहरा भावनात्मक संबंध होता है, क्योंकि वही मिट्टी इकट्ठा करने, दीवारों का निर्माण करने और अक्सर गाय के गोबर से घर को लेपने का काम करती हैं. घर की छत आमतौर पर पुरुष बनाते हैं.”

कोया आदिवासियों का कंक्रीट के घरों के बजाय मिट्टी के घर बनाने के पीछे एक औऱ वजह है कम लागत. इसके अलावा वो मानते हैं कि मिट्टी की दीवारों वाले घर उनके जीवन के कई पहलुओं को दर्शाते हैं. ऐसे में उनके लिए इन घरों को छोड़ने की निश्चितता भी उनके दुख को कम नहीं कर सकती.

दूसरी तरफ़ जंगलों से आदिवासियों का लगाव गहरा है. लकड़ी, बांस और दूसरे वनोपज इकट्ठा करने की जो आज़ादी उन्हें है, वो पुनर्वास के बाद ख़त्म हो जाएगी.                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                    

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here