ओडिशा: पुलिस का मुखबिर होने के शक में आदिवासी आदमी की हत्या

गांववालों को घटना का पता तब चला जब उन्होंने सुबह मांझी के शव को खून से लथपथ देखा.

0
150

ओडिशा के कंधमाल जिले में माओवादियों ने पुलिस का मुखबिर होने के शक में एक आदिवासी आदमी की हत्या कर दी है. मामला मंगलवार को सामने आया.

बेलघर प्रखंड के एक गांव में सोमवार रात करीब 10 हथियारबंद नक्सलियों ने कपिल मांझी को खींचकर उनके घर से बाहर निकाला. पुलिस के मुताबिक, इसके बाद वो 32 साल के मांझी को थोड़ी दूर एक जगह तक ले गए, और उसका गला काट दिया.

गांववालों को घटना का पता तब चला जब उन्होंने सुबह मांझी के शव को खून से लथपथ देखा.

बल्लीगुडा अनुमंडल पुलिस अधिकारी आर राघवेंद्र रेड्डी ने बताया कि माओवादियों ने मांझी को पुलिस का मुखबिर होने के शक में मार डाला था.

पिछले हफ्ते, कंधमाल-कालाहांडी-बौध-नयागढ़ डिवीजन के माओवादियों ने एक कंस्ट्रक्शन कंपनी की मशीनों में आग लगा दी थी. यह कंपनी फ़िरिंगिया के एक गाँव में एक सड़क परियोजना पर काम कर रही थी.

पिछले 15 दिनों में इलाके के कई गांवों में नक्सलियों के बैनर और पोस्टर सामने आए हैं. इनमें लोगों से आज यानि बुधवार से शुरू होने वाले पंचायत चुनाव का बहिष्कार करने की अपील की जा रही है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here