ओडिशा: पद्म श्री से सम्मानित पुजारी को ICU में जबरन कराया डांस, मामले की जांच करेगा SCBMCH

कोरापुट में आदिवासी समुदाय के परजा समाज के अध्यक्ष हरीश मुदुली ने कहा कि सामाजिक कार्यकर्ता की पहचान ममता बेहरा के रूप में हुई है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार ममता के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है तो समुदाय के सदस्य सड़क पर उतरेंगे.

0
25

ओडिशा के परजा आदिवासी समुदाय के सदस्यों ने उस महिला सामाजिक कार्यकर्ता के खिलाफ कार्रवाई की बृहस्पतिवार को मांग की, जिसने पद्म श्री से सम्मानित कमला पुजारी को अस्पताल से छुट्टी मिलने से पहले डांस करने के लिए कथित तौर पर मजबूर किया.

हालांकि एससीबीएमसीएच (S.C.B. Medical College and Hospital Cuttack) ने आदिवासी कृषि कार्यकर्ता कमला पुजारी को ओडिशा के प्रमुख सरकारी अस्पताल के आईसीयू में डांस करने के लिए मजबूर किए जाने के आरोप की जांच के आदेश दिए हैं. इसने मामले की जांच के लिए एक जांच कमेटी का गठन किया है.

दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो सामने आया है. इसमें 70 साल की महिला सरकारी अस्पताल के आईसीयू में डांस करती हुईं नजर आ रही हैं. इस वीडियो में सामाजिक कार्यकर्ता भी उनके साथ डांस करती दिखीं. बैकग्राउंड में म्यूजिक बज रहा था. हालांकि ये घटना सोमवार की है, जब उन्हें अस्पताल से छुट्टी दी जा रही थी.

कमला पुजारी ने कोरापुट जिले में समाचार चैनलों से कहा, “मैं नृत्य नहीं करना चाहती थी लेकिन मुझे इसके लिए बाध्य किया गया. मैंने बार-बार मना किया लेकिन उन्होंने (सामाजिक कायकर्ता ने) मेरी नहीं सुनी. मुझे नृत्य करना पड़ा. मैं बीमार और थकी थी.”

उधर कोरापुट में आदिवासी समुदाय के परजा समाज के अध्यक्ष हरीश मुदुली ने कहा कि सामाजिक कार्यकर्ता की पहचान ममता बेहरा के रूप में हुई है. उन्होंने कहा कि अगर सरकार ममता के खिलाफ कार्रवाई नहीं करती है तो समुदाय के सदस्य सड़क पर उतरेंगे.

वहीं ममता बेहरा ने कहा कि उनका कोई गलत इरादा नहीं था. उन्होंने बुरे इरादे से डांस करने को नहीं कहा था, वह सिर्फ कमला पुजारी की थकान और आलस को दूर करने के लिए डांस करने को कह रही थीं.

इस मुद्दे के बाद, एससीबीएमसीएच के अधिकारियों ने मामले की जांच के लिए एक जांच समिति गठित करके जांच के आदेश दिए हैं. एससीबीएमसीएच के प्रशासनिक अधिकारी अविनाश राउत और प्रोफेसर बीके बेहरा चिकित्सा विभाग के प्रमुख प्रोफेसर जयंत पांडा की अध्यक्षता में जांच पैनल के सदस्य हैं.

प्रोफेसर जयंत पांडा ने कहा, “हम बहनों, परिचारकों और सामाजिक कार्यकर्ता को पूछताछ के लिए कोरापुट से एससीबीएमसीएच बुलाएंगे. पूछताछ के बाद हम अस्पताल अधीक्षक को रिपोर्ट सौंपेंगे.”

कमला पुजारी को 21 अगस्त को कोरापुट में डीएचएच में भर्ती कराया गया था और 24 अगस्त को एससीबीएमसीएच आईसीयू में स्थानांतरित कर दिया गया था. उन्हें लिवर संबधी समस्या होने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया था.

पुजारी 2019 में पद्म श्री से सम्मानित

कमला पुजारी को 2019 में जैविक खेती को बढ़ावा देने और धान सहित विभिन्न फसलों के स्वदेशी बीजों की 100 से अधिक किस्मों को संरक्षित करने के लिए पद्म श्री पुरस्कार से सम्मानित किया गया था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here