HomeAdivasi Dailyमणिपुर : अरामबाई तेंगगोल के दो सदस्य गिरफ्तार, हथियार जब्त

मणिपुर : अरामबाई तेंगगोल के दो सदस्य गिरफ्तार, हथियार जब्त

मणिपुर और केंद्र की सरकारें दावे करती रहीं कि वो हालात को सामान्य करने की सभी कोशिशें कर रही हैं लेकिन आज भी मणिपुर पटरी पर नहीं है.

मणिपुर के इंफाल वेस्ट जिले में सशस्त्र समूह अरामबाई तेंगगोल के दो सदस्यों को गिरफ्तार कर उनके कब्जे से हथियार जब्त किए गए हैं.

पुलिस ने बताया कि नंबुल मापल क्षेत्र से बुधवार को गिरफ्तार किए गए अरामबाई तेंगगोल सदस्यों की पहचान कंगबाम लेनिन सिंह (43) और तोइजम शांति किशोर (50) के रूप की गई है.

पुलिस के मुताबिक, सिंह और किशोर के कब्जे से एक मैगजीन और 16 कारतूस के साथ एक इंसास राइफल तथा एक मैगजीन और तीन कारतूस के साथ 38 कैलिबर की पिस्तौल जब्त की गई है.

पुलिस के अनुसार, सिंह और किशोर के खिलाफ मामला दर्ज कर जांच शुरू कर दी गई है.

कुकी बहुल इलाकों में 12 घंटे का पूर्ण बंद

वहीं दूसरी ओर राज्य में पिछले 2 दिनों में 5 कुकी-ज़ो संगठन के सदस्यों की गिरफ्तारी से जनजातीय समुदाय नाराज है. गिरफ्तारी के विरोध में संगठन की तरफ से 12 घंटे का पूर्ण बंद रखा गया. जिसके कारण मणिपुर के कम से कम चार जिलों में सामान्य जनजीवन प्रभावित हुआ.

भारत-म्यांमार सीमा पर बसे मोरेह शहर में इनकी रिहाई की मांग को लेकर बड़ा प्रदर्शन हुआ.

प्रदर्शनकारियों ने अलग प्रशासन, कुकी-जो उग्रवादियों को रिहा करो और मणिपुर से पूरी तरह अलग होने की मांग वाले नारे लगाए.

मणिपुर में पिछले साल मई महीने में शुरू हुई जातीय हिंसा में 200 से ज्यादा लोग मारे जा जुके हैं और एक साल बाद भी हालात सामान्य नहीं हो पाए हैं.

हालात ये हैं कि अब भी हिंसा से प्रभावित मैतेई और कुकी समुदाय के लोग बड़ी संख्या में राहत शिविरों में रह रहे हैं. जबकि हिंसा से प्रभावित कई ऐसे भी लोग थे, जिन्हें भागकर पड़ोसी राज्य मिज़ोरम में शरण लेनी पड़ी है.

PM का मणिपुर दौरा कोई मुद्दा नहीं – CM बीरेन सिंह

इस सब के बीच मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह ने बुधवार को कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का मणिपुर दौरा कोई मुद्दा नहीं है क्योंकि उनकी सरकार चौबीसों घंटे पीएम के संपर्क में है.

सिंह का यह बयान लोकसभा में विपक्ष के नेता राहुल गांधी के मणिपुर दौरे के दो दिन बाद आया है, जिसमें उन्होंने मोदी से जातीय संघर्ष से प्रभावित राज्य में आकर लोगों को सांत्वना देने का अनुरोध किया था.

सीएम ने कहा, ‘हम चौबीसों घंटे पीएम के संपर्क में हैं और उनके मार्गदर्शन में काम कर रहे हैं. प्रधानमंत्री की सलाह और सहमति के बाद सभी राहत कार्य, सुरक्षा उपाय, खाद्य और चिकित्सा प्रावधान किए जा रहे हैं.’

सिंह ने कहा कि राज्य में दोनों समुदायों के बीच सुलह के प्रयास जारी हैं. हमें मुद्दों को सुलझाना होगा.

राहुल गांधी ने किया था मणिपुर दौरा

कांग्रेस सांसद राहुल गांधी ने हाल ही में मणिपुर का दौरा किया. उन्होंने हिंसा प्रभावित इलाकों में कुकी और मैतेयी दोनों समुदायों से मुलाकात की और उनका हाल जाना.

राहुल मणिपुर के चुराचांदपुर और बिष्णुपुर दोनों ही इलाकों में बने राहत कैंपों में गए थे.

मणिपुर दौरे पर गए राहुल गांधी ने कहा था कि हजारों परिवारों को नुकसान पहुंचा है, लोग मारे गए हैं. मणिपुर में जो हो रहा है, वैसा मैंने भारत में कहीं नहीं देखा. राज्य दो भागों में बंट गया है. मैंने राज्यपाल से बात की और हमने उनसे कहा कि हम शांति बहाल करने के लिए हरसंभव मदद करेंगे. मैं इस मुद्दे का राजनीतिकरण नहीं करना चाहता हूं.

भाजपा नेताओं ने उच्चस्तरीय कार्यकारी बैठक की

केंद्रीय विधि एवं न्याय राज्य मंत्री अर्जुन राम मेघवाल की अध्यक्षता में बुधवार को हुई उच्चस्तरीय कार्यकारिणी की बैठक में राज्य में शांति बहाल करने की पहल में तेजी लाने समेत कई प्रस्ताव पारित किए गए.

इंफाल में राज्य भाजपा कार्यालय में आयोजित बैठक में मणिपुर के मुख्यमंत्री एन बीरेन सिंह, भाजपा पूर्वोत्तर क्षेत्र के प्रभारी संबित पात्रा, राज्य के कैबिनेट मंत्री और विधायक शामिल हुए.

मीडिया को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने बताया कि सामान्य स्थिति बहाल करने के लिए शांति पहल में तेजी लाना बुधवार की बैठक में पारित प्रस्तावों में से एक था.

उन्होंने कहा, “हम सभी जानते हैं कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह की देखरेख में शांति बहाल करने के लिए दोनों समुदायों के बीच बातचीत शुरू हुई थी. राज्य के कई हिस्सों में सामान्य स्थिति लौट आई है.”

सीएम बीरेन ने आगे बताया कि बैठक में मणिपुर में हाल ही में आई बाढ़ के संबंध में आवश्यक कदम उठाने पर भी चर्चा हुई. बैठक में संकट से प्रभावित विस्थापित लोगों के लिए स्थापित राहत शिविरों के मुद्दों की निगरानी पर भी चर्चा हुई.

उन्होंने आगे कहा कि मणिपुर के कैबिनेट मंत्री के गोविंदास की अध्यक्षता में एक समिति पहले ही गठित की जा चुकी है. हालांकि, राहत प्रक्रिया की प्रभावी निगरानी के लिए बैठक के दौरान एक उप-समिति भी बनाई गई है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Recent Comments