ओडिशा: चार आदिवासी बहुल ज़िलों में महिलाओं की वैक्सिनेशन दर पुरुषों से ज़्यादा

देशभर के स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए महिलाओं और ख़ासकर आदिवासी समुदायों के बीच वैक्सीन की हिचकिचाहट को दूर करन बड़ी चुनौती रहा है. लेकिन ओडिशा में शुरुआती संकोच के बाद, जागरुकता अभियानों और समुदाय के सदस्यों की भागीदारी के माध्यम से यह हिचकिचाहट काफ़ी हद तक दूर हो पाई है.

0
239

COVID वैक्सिनेशन को लेकर हिचकिचाहट और तरह-तरह की अफ़वाहों के बीच, ओडिशा के आदिवासी ज़िलों ने राज्य के सबसे साक्षर और विकसित तटीय जिलों की तुलना में महिलाओं के वैक्सिनेशन में बेहतर प्रदर्शन किया है.

राज्य के आदिवासी इलाक़ों में महिलाओं की वैक्सिनेशन दर पुरुषों के मुक़ाबले काफ़ी बेहतर है.

पूरे राज्य की बात करें तो कम से कम एक डोज़ लगवा चुके लोगों में से 47 प्रतिशत महिलाएं हैं. इनमें भी ऐसी महिलाओं की संख्या चार आदिवासी बहुल समेत ओडिशा के छह ज़िलों में ज़्यादा है.

राज्य ने 1.06 करोड़ पुरुषों और 96.42 लाख महिलाओं को COVID वैक्सीन लगाया है, जिसका मतलब हर 1,000 पुरुषों के मुकाबले लगभग 903 महिलाओं को कोविड वैक्सीन लगा है.

देशभर के स्वास्थ्य अधिकारियों के लिए महिलाओं और ख़ासकर आदिवासी समुदायों के बीच वैक्सीन की हिचकिचाहट को दूर करन बड़ी चुनौती रहा है. लेकिन ओडिशा में शुरुआती संकोच के बाद, जागरुकता अभियानों और समुदाय के सदस्यों की भागीदारी के माध्यम से यह हिचकिचाहट काफ़ी हद तक दूर हो पाई है.

CoWIN डैशबोर्ड के अनुसार ओडिशा के छह ज़िलों – गंजम, गजपति, कंधमाल, कोरापुट, नबरंगपुर और रायगड़ा में पुरुषों की तुलना में वैक्सिनेट की जाने वाली महिलाओं की संख्या ज़्यादा है.

गंजम में महिला और पुरुष वैक्सिनेशन अनुपात बेहतर है. यहां 10.90 लाख महिलाओं को 10.45 लाख पुरुषों की तुलना में वैक्सीन की कम से कम एक डोज़ मिली है. इसी तरह गजपति में 1.28 लाख महिलाओं और 1.22 लाख पुरुषों को टीका लगाया गया है.

आदिवासी ज़िलों की बात करें तो कोरापुट में 3.57 लाख महिलाओं और 3.36 लाख पुरुषों, कंधमाल में 1.53 लाख महिलाओं और 1.42 लाख पुरुषों, नबरंगपुर में 2.22 लाख पुरुषों और 2.15 लाख पुरुषों, और रायगडा में 2.2 लाख महिलाओं और 2.1 लाख पुरुषों को कोविड वैक्सीन की कम से कम एक डोज़ मिली है.

नुआपाड़ा, मलकानगिरी, मयूरभंज, सोनपुर और बौध जैसे दूसरे आदिवासी बहुल ज़िलों में महिलाओं और पुरुषों के बीच वैक्सिनेशन अंतर कम है, जबकि सुंदरगढ़, कालाहांडी, बलांगीर, क्योंझर और झारसुगुड़ा में यह राज्य के औसत के क़रीब है.

खुर्दा में 14.19 लाख पुरुषों की तुलना में 11.31 लाख महिलाओं को वैक्सिनेट किया गया है, और कटक ज़िले में 6.84 लाख पुरुषों के मुकाबले 5.63 लाख महिलाओं को वैक्सीन लगाया गया है.

हालांकि, खुर्दा, कटक, अंगुल, जाजपुर, पुरी, संबलपुर, बालासोर, भद्रक, जगतसिंहपुर और केंद्रपाड़ा जैसे ज़िलों में यह अंतर ज़्यादा बड़ा है.

द न्यू इंडियन एक्सप्रेस को परिवार कल्याण निदेशक और कोविड वैक्सिनेशन के नोडल अधिकारी डॉ. बिजय पाणिग्रही ने बताया कि जागरुकता अभियान तेज़ कर दिया गया है, और आशा और आंगनवाड़ी कार्यकर्ता ग्रामीण महिलाओं के बीच वैक्सिनेशन की हिचकिचाहट को दूर करने में लगे हुए हैं.

ओडिशा में 19 अगस्त तक कुल 2.03 करोड़ लोगों को वैक्सीन लगाया जा चुका था.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here