तमिलनाडु: जून के अंत तक नीलगिरी के सभी आदिवासियों को लगेगा कोविड वैक्सीन

नीलगिरी की पहाड़ियों में पनिया, टोडा, कोटा, इरुला, काटुनायकन और कुरुम्बा आदिवासी समुदाय रहते हैं. यह सभी समुदाय पीवीटीजी यानि आदिम जनजाति की श्रेणी में आते हैं.

0
585

तमिलनाडु सरकार का कहना है कि इस महीने के अंत तक नीलगिरी पहाड़ियों में रहने वाले सभी 21,435 आदिवासियों को COVID-19 वैक्सीन लगा दिया जाएगा.

राज्य के चिकित्सा और परिवार कल्याण मंत्री तिरु मा सुब्रमण्यम के मुताबिक़ अब तक 3,000 आदिवासियों को टीका लगाया जा चुका है. आने वाले दिनों में आदिवासियों को वैक्सीन लगाने के लिए 18,000 डोज़ ज़िले में लाई जाएंगी.

हालांकि तमिलनाडु में कोरोनावायरस का प्रसार नियंत्रण में आ गया है, लेकिन नीलगिरी और कोयंबतूर सहित 11 ज़िलों में यह अभी भी बढ़ रहा है. राज्य सरकार ने स्थिति को देखते हुए लॉकडाउन को कुछ छूटों के साथ 14 जून तक एक और सप्ताह के लिए बढ़ा दिया है.

नीलगिरी में पनिया, कुरुम्बा, कोटा, टोडा और इरुला जैसे पीवीटीजी आदिवासी समुदाय रहते हैं

राज्य में ज़रूरी सामान बेचने वाली दुकानों और सरकारी दफ़्तरों को फिर से खोलने की अनुमति दी गई है. लेकिन उन 11 ज़िलों में जहां कोविड-19 का प्रसार ज़्यादा है, वहां छूट कम होगी.

इसके अलावा ज़िला प्रशासन से नीलगिरी, कोडईकनाल, यरकौड और कुट्रालम के पर्यटन स्थलों में प्रवेश के लिए ई-पास ज़रूरी करने को कहा गया है.

नीलगिरी की पहाड़ियों में पनिया, टोडा, कोटा, इरुला, काटुनायकन और कुरुम्बा आदिवासी समुदाय रहते हैं. यह सभी समुदाय पीवीटीजी यानि आदिम जनजाति की श्रेणी में आते हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here