नाबालिग मूक बधिर आदिवासी लड़की के साथ रेप, दो गिरफ़्तार

लड़की के परिवार ने पुलिस में घटना की रिपोर्ट की है. पुलिस ने बताया है कि इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया. आरोपियों में जरजट्टा महुआटोली निवासी वाहिद शाह (22 वर्ष) और बगड़ू थाना के चुरहू गांव निवासी अरबाज खान (20 वर्ष) है.

0
98

गुमला जिला के सुरसांग थाना इलाक़े में शुगुपटम घाटी पुलिया के पास सुनसान जगह पर एक नाबालिग आदिवासी लड़की के साथ गैंगरेप का मामला पता चला है. 

इस लड़की के बारे में बताया गया है कि वह बोल और सुन नहीं सकती है. इसके साथ ही लड़की मानसिक रूप से भी मज़बूत नहीं है. 

लड़की के परिवार ने पुलिस में घटना की रिपोर्ट की है. पुलिस ने बताया है कि इस मामले में दो आरोपियों को गिरफ्तार किया. आरोपियों में जरजट्टा महुआटोली निवासी वाहिद शाह (22 वर्ष) और बगड़ू थाना के चुरहू गांव निवासी अरबाज खान (20 वर्ष) है.

SDPO सिरिल मरांडी ने बताया कि पीड़िता अपने चाचा के घर जा रही थी. तभी दोनों आरोपियों ने उसे पकड़ लिया. इसके बाद सुनसान जगह पर ले जाकर दुष्कर्म किया. 

रास्ते से एक बाराती गाड़ी गुजर रही थी. तभी एक बाराती पेशाब करने के लिए उतरा और सड़क से उतरकर जंगल के समीप पेशाब करते समय उन्होंने दो युवकों द्वारा एक लड़की के साथ दुष्कर्म करते देखा. हल्ला करने पर दोनों युवक भाग गये. इसके बाद लड़की को घर पहुंचाया गया.

जानकारी मिलते ही पुलिस ने छापामारी टीम बनायी. जिसमें थाना प्रभारी संदीप राज, एएसआइ गफ्फार अंसारी, हवलदार फूलजेंस टोप्पो, सचिन सिंह, जॉनी केरकेट्टा, बंधन उरांव, अनिल उरांव सहित पुलिस जवान शामिल थे. 

पुलिस ने दो युवकों को पकड़ा, तो लड़की ने इशारा कर दोनों की पहचान की. पीड़िता ने इशारा में बतायी कि दोनों युवक उसे पकड़ लिये. फिर गला दबाने लगे. हत्या करने की बात कहकर दुष्कर्म किया है.

सुरसांग क्षेत्र में नाबालिग विक्षिप्त लड़की से सामूहिक दुष्कर्म के बाद आरोपियों की गिरफ्तारी को लेकर ग्रामीण सड़क जाम करने की योजना बनाए थे. सोशल मीडिया से सड़क जाम करने की सूचना जारी हुई. 

गुरुवार की सुबह को मांझाटोली के समीप सैंकड़ों लोग उतरने वाले थे, लेकिन इससे पहले ही आरोपियों को पकड़कर पुलिस ने जेल भेज दिया. इसकी जानकारी मिलते ही सड़क जाम को स्थगित कर दिया गया. 

सड़क जाम की सूचना पर एसडीपीओ सिरिल मरांडी, इंस्पेक्टर बैजू उरांव, बीडीओ अमित मिश्रा, रायडीह थानेदार अमित कुमार, सुरसांग थानेदार संदीप राज व पुलिस बल अलर्ट थे.

सुरसांग थानेदार संदीप राज ने बताया कि पीड़िता विक्षिप्त है. वह बोल और सुन नहीं सकती है. उसके चाचा द्वारा लिखित आवेदन के बाद केस दर्ज कर दोनों आरोपियों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया गया. 

गिरफ़्तार किये गए दोनों ही आरोपियों ने अपराध में शामिल होना स्वीकार कर लिया है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here