जम्मू और कश्मीर में आदिवासियों के लिए ख़ास हेल्थ प्लान, एक मजबूत प्रणाली तैयार करने का दावा

जनजातीय मामलों के सचिव ने आदिवासी विकास की वार्षिक योजना और मोबाइल चिकित्सा इकाइयों और ट्रांसिट स्वास्थ्य प्रणाली सहित स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर चर्चा की. व्यापक जनजातीय स्वास्थ्य योजना के लिए एनएचएम के साथ समन्वय के लिए स्वास्थ्य सेवा में वृद्धि के लिए विभाग की पहल पर चर्चा की गई.

0
292

आदिवासी मामलों के विभाग और राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने आज जनजातीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा के बुनियादी ढांचे के विकास और प्रवासी जनजातीय आबादी के लिए समर्पित सुविधाएं प्रदान करने के उद्देश्य से जनजातीय स्वास्थ्य योजना को लागू करने के तौर-तरीकों को अंतिम रूप दिया. 

इस योजना में स्वास्थ्य सेवा के अलग अलग पहलुओं को शामिल करते हुए कई नई पहल भी शामिल हैं. जनजातीय मामलों के विभाग के सचिव शाहिद इकबाल चौधरी के साथ राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के  प्रबंध निदेशक मोहम्मद यासीन चौधरी ने कार्यक्रम के योजना और सुविधाओं के  बारे में विस्तार से चर्चा की. 

बैठक में जनजातीय कार्य विभाग के विशेष सचिव, जनजातीय मामलों के निदेशक, राज्य समन्वयक एनएचएम, संयुक्त निदेशक योजना, ओएसडी मिशन युवा, जिला अधिकारी व विशेषज्ञ शामिल हुए. 

जनजातीय मामलों के सचिव ने आदिवासी विकास की वार्षिक योजना और मोबाइल चिकित्सा इकाइयों और ट्रांसिट स्वास्थ्य प्रणाली सहित स्वास्थ्य देखभाल प्रणाली पर चर्चा की. व्यापक जनजातीय स्वास्थ्य योजना के लिए एनएचएम के साथ समन्वय के लिए स्वास्थ्य सेवा में वृद्धि के लिए विभाग की पहल पर चर्चा की गई.

एनएचएम के एमडी मोहम्मद यासीन चौधरी ने आदिवासी मामलों के विभाग, स्वास्थ्य विभाग और संबंधित जिला प्रशासन के समन्वय से लागू की जाने वाली आदिवासी स्वास्थ्य योजना के बारे में विस्तृत प्रस्तुति दी. 

योजना में निवारक स्वास्थ्य देखभाल, मोबाइल स्वास्थ्य इकाइयां, टेलीमेडिसिन, क्षमता निर्माण और पेशेवर मानव संसाधन नेटवर्क का विस्तार शामिल है. उन्होंने समग्र जनजातीय स्वास्थ्य देखभाल के लिए कई उपायों का प्रस्ताव रखा जो जनजातीय क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवा प्रणाली को मजबूत करेगा.

जनजातीय मामलों के विभाग ने जनजातीय स्वास्थ्य योजना के लिए भी बजट निर्धारित किया है ताकि मोबाइल स्वास्थ्य इकाइयों को उपलब्ध कराया जा सके. जनजातीय क्षेत्रों में स्थित स्वास्थ्य संस्थानों में बुनियादी ढांचे को बढ़ाना, युवाओं का प्रशिक्षण, ट्रांसिट मार्गों और ऊंचाई पर बसे इलाकों में सुविधाओं की उपलब्धता. 

बैठक में आयोजित किए जाने वाले अलग अलग अध्ययनों और स्वास्थ्य जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन करने का भी निर्णय लिया गया. मिशन निदेशालय, राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन ने भी आदिवासी आबादी के कवरेज के लिए एक विस्तृत स्वास्थ्य योजना का प्रस्ताव दिया है. एनएचएम आउटरीच सहित एक अच्छी तरह से तैयार जनजातीय स्वास्थ्य योजना के लिए समर्पित कोशिश शुरू कर रहा है. मां और बच्चे के स्वास्थ्य पर भी चर्चा हुई. 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here