महाराष्ट्र: आदिवासी-बहुल नंदुरबार में कोविड मृत्यु दर बढ़ी, लेकिन स्थिति नियंत्रण में

नंदुरबार के कलेक्टर डॉ राजेंद्र भारूड़ ने मीडिया को बताया कि ज़िले में सकारात्मकता दर सिर्फ़ 5% है. उन्होंने बताया कि पूरे जिले से रोज़ 100 से कम कोविड के मामले सामने आ रहे हैं, जिनमें से 5-6 लोग दम तोड़ रहे हैं.

0
165

मुंबई, पुणे और नागपुर में कोविड का पॉज़िटिविटी रेट (टीपीआर) काफी कम हो गया है, लेकिन नंदुरबार के आदिवासी-बहुल ज़िले में पिछले दो हफ्तों से कोविड से मृत्यु दर बढ़ गई है.

राज्य सरकार की साप्ताहिक रिपोर्ट में सामने आया है कि नंदुरबार में 5 मई से 11 मई के बीच मृत्यु दर 5.70% थी, जो राज्य की औसत 1.35% मृत्यु दर से काफ़ी ज़्यादा है.

28 अप्रैल से 2 मई के बीच नंदुरबार में मृत्यु दर 3.60% थी, जबकि उस दौरान राज्य का औसत 1.34% था. इससे एक हफ़्ते पहले यानि 21-27 अप्रैल के बीच ज़िले में मृत्यु दर 1.14 फीसदी थी.

नंदुरबार के कलेक्टर डॉ राजेंद्र भारूड़ ने मीडिया को बताया कि ज़िले में सकारात्मकता दर सिर्फ़ 5% है. उन्होंने बताया कि पूरे जिले से रोज़ 100 से कम कोविड के मामले सामने आ रहे हैं, जिनमें से 5-6 लोग दम तोड़ रहे हैं.

बढ़ी हुई मृत्यु दर के आंकड़ों के बारे में उन्होंने कहा कि पहले की कुछ मौतें इस सप्ताह के आंकड़ों में जोड़ी गई हैं. भारूड़ ने यह भी कहा कि प्रशासन यह सुनिश्चित करने की कोशिश कर रहा है कि कोविड-19 से किसी की मौत न हो.

आपको याद होगा कोविड-19 की दूसरी लहर के बीच अपने ज़िले के लोगों को सुरक्षित रखने के लिए कलेक्टर भारूड़ ने ज़िले में मेडिकल ऑक्सीजन की सुचारू सप्लाई, हॉस्पिटल बेड, आइसोलेशन वॉर्ड से लेकर ज़िले में वेक्सीनेशन अभियान सुनिश्चित किया था. 

मृत्यु दर के हिसाब से नंदुरबार के बाद नांदेड़ का नंबर आता है, जहां पिछले तीन हफ्तों में यह 3.76% की रही है. रिपोर्ट में कहा गया है कि 28 अप्रैल से 4 मई के बीच नांदेड़ की मृत्यु दर 3.35% थी, और उससे पिछले हफ़्ते 5.57%.

महाराष्ट्र में कोविड-19 की स्थिति लगातार बेहतर हो रही है. पिछले दो दिनों से बीमारी से उबरने वालों की संख्या नए मामलों से ज़्यादा है. महाराष्ट्र में फ़िलहाल 5,33,294 सक्रिय मामले हैं.

राज्य की बीमारी से ठीक होने की दर 88.34 प्रतिशत है, जबकि मृत्यु दर 1.50 प्रतिशत.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here