तमिलनाडु: मुख्यमंत्री ने सुनी आदिवासी बस्ती के बच्चों की गुहार, शुरू कराई बस सेवा

0
344

तमिलनाडु के चेंगलपेट ज़िले के पझवेली गांव के आदिवासी छात्रों के लिए एक बहुत बड़ी खुशखबरी है. उन्हें अब एक ऊंची पहाड़ी और व्यस्त बाईपास सड़क को पार कर अपने स्कूल तक 7 किमी चलने की जरूरत नहीं है.

मुख्यमंत्री एमके स्टालिन ने परिवहन मंत्री को आदेश दिया है कि उन बच्चों के लिए ख़ास बस सेवा की व्यवस्था की जाए.

तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एम के स्टालिन

आपको इन आदिवासी बच्चों की कहानी याद होगी. इन्हें घर और स्कूल के बीच कुल 14 किमी की दूरी पैदल तय करनी पड़ती है, जबकि उनके माता-पिता अपने बच्चों को लेने और छोड़ने के लिए इससे दुगनी दूरी तय करते थे.

अब मुख्यमंत्री के निर्देश के बाद राज्य परिवहन निगम के अधिकारियों ने बुधवार को रास्ते का सर्वेक्षण किया और दोपहर से ही सेवा शुरू कर दी. आदिवासी बस्ती के निवासियों और छात्रों ने मुख्यमंत्री का धन्यवाद किया है.

इन बच्चों को स्कूल से आने-जाने के लिए 14 किमी पैदल चलना पड़ता था

छात्रों को घर से स्कूल ले जाने के लिए और शाम को उन्हें घर छोड़ने के लिए बस दोनों समय एक बार संचालित होगी.

बस के संचालन की ख़बर से बस्त के बच्चे ही नहीं, बल्कि ज़िले के आदिवासी अधिकार कार्यकर्ता भी काफ़ी खुश हैं. पझवेली से होकर जाने वाली बस सर्विस की मांग सालों पुरानी है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here