HomeAdivasi Dailyतेलंगाना में पोडु भूमि विवाद को लेकर आदिवासियों ने पुलिस पर किया...

तेलंगाना में पोडु भूमि विवाद को लेकर आदिवासियों ने पुलिस पर किया हमला

घटना के बाद अतिरिक्त पुलिस कर्मियों को गांव भेजा गया, जिन्होंने हमले में शामिल 20 से अधिक आदिवासियों को हिरासत में लिया, जबकि कुछ गांव से भाग गए.

तेलंगाना (Telangana) के खम्मम जिले (Khammam district) के सत्तुपल्ली मंडल (Sattupalli mandal) के चंद्रायपलेम गांव में उस समय तनाव पैदा हो गया जब दो आदिवासी समूहों ने पोडु भूमि (Podu land) पर खेती करने से रोकने के लिए पुलिस पर हमला कर दिया.

दरअसल, रविवार को जिले के सतुपल्ली मंडल के बुग्गापाडु में पोडु भूमि मुद्दे (Podu land issue) के सिलसिले में आदिवासियों का एक बड़ा समूह, जिसमें पुरुष और महिलाएं दोनों शामिल थे, उग्र हो गए और पुलिस कर्मियों की पिटाई कर दी, जिससे गांव में भारी तनाव पैदा हो गया.

टकराव के दौरान एक सर्कल इंस्पेक्टर किरण कुमार और चार कांस्टेबल घायल हो गए और उन्हें अस्पताल ले जाया गया. उनकी हालत स्थिर बताई जा रही है.

खम्मम के पुलिस कमिशनर सुनील दत्त ने कहा कि दो गांवों के आदिवासी भूमि अधिकार के लिए झगड़ रहे थे. घटना के बाद पुलिस बल चंद्रयापलेम गांव पहुंचे और रविवार शाम तक 21 आदिवासी सदस्यों को हिरासत में ले लिया.

सूत्रों के मुताबिक, 70 एकड़ जमीन को लेकर विवाद चल रहा है. जहां आदिवासियों का दावा है कि यह सरकारी जमीन है, वहीं वन विभाग स्वामित्व का दावा करता है. भूमि को सरकारी भूमि के रूप में पहचानने के आदिवासियों के कानूनी प्रयासों के बावजूद न तो राजस्व और न ही वन विभाग ने सीमाओं की पहचान करने के लिए कदम उठाए हैं.

इसके बाद जब वन अधिकारियों ने क्षेत्र में किसी गतिविधि का प्रयास किया तो आदिवासियों ने उन्हें रोक दिया, जिसके चलते टकराव हुआ. बाद में वन अधिकारियों ने आदिवासियों के खिलाफ उनके काम में बाधा डालने के लिए सत्तुपल्ली पुलिस स्टेशन में शिकायत दर्ज कराई.

सत्तुपल्ली सीआई एस किरण ने आदिवासियों से पीएस को रिपोर्ट करने का आह्वान किया. हालांकि, 500 से 600 आदिवासी सदस्यों का एक बड़ा समूह विरोध प्रदर्शन करते हुए पुलिस स्टेशन पर इकट्ठा हुआ.

भूमि पर अवैध प्रवेश के खिलाफ पुलिस की चेतावनी के बावजूद आदिवासी गांव लौट आए और अपनी गतिविधियां फिर से शुरू कर दीं.

सूचना मिलने पर कि झड़प हो गई है सत्तुपल्ली सीआई और चार कांस्टेबल, जो नागरिक पोशाक पहने हुए थे. उन्होंने हस्तक्षेप करने का प्रयास किया. इसी बीच जब सीआई ने आदिवासी नेताओं में से एक का मोबाइल फोन जब्त कर लिया तो आदिवासी उत्तेजित हो गए, जिससे पुलिस पर हमला हो गया. हालांकि, पुलिस मौके से भागने और चिकित्सा सहायता लेने में सफल रही.

घटना के बाद, अतिरिक्त पुलिस कर्मियों को गांव भेजा गया, जिन्होंने हमले में शामिल 20 से अधिक आदिवासियों को हिरासत में लिया, जबकि कुछ गांव से भाग गए.

कमिशनर ने कहा, “इक्कीस आदिवासी सदस्यों को पकड़ लिया गया है जो हमले में शामिल थे और हम अन्य की पहचान करने की प्रक्रिया में हैं.”

जब आदिवासियों ने पुलिस की गिरफ़्तारी रोकने की कोशिश की तो पुलिस ने बल प्रयोग किया जिससे कुछ महिलाएं घायल हो गईं.

एसीपी ए रघु, एफडीओ मंजुला और एफआरओ स्नेहलता ने मौके पर जाकर स्थिति का जायजा लिया.

(Image credit: Telangana Today)

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments