धर्मांतरण पर विवाद: पलामू में आदिवासी और ईसाई समुदाय के लोग भिड़े, 30 घायल

मारपीट में घायल हुए अधिकतर लोग मसीही धर्म मानने वाले हैं. वहीं आदिवासी समाज के उरांव समुदाय के कुछ लोगों को भी चोटें आई है. बताया जा रहा है कि पुलिस की 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद मामला शांत हुआ.

0
257

झारखंड के पलामू में आदिवासी समाज और मसीही समुदाय में झड़प हो गई है. सोमवार को नीलांबर पितांबरपुर थाना क्षेत्र के दरुआ गांव में बाहर से क्रिसमस गैदरिंग मनाने पहुंचे मसीही समुदाय के कार्यक्रम स्थल पर स्थानीय ग्रामीणों ने हमला कर दिया. दोनों पक्षों के बीच जमकर मारपीट हुई.

इसके बाद स्थानीय लोगों ने गैदरिंग कर रहे लोगों को खदेड़कर गांव से भगा दिया. इसमें 30 से ज्यादा लोग जख्मी हैं. मारपीट और हुड़दंग के दौरान अतिथियों के लिए बना खाना भी नष्ट हो गया. दैनिक भास्कर की रिपोर्ट के मुताबिक गैदरिंग स्थल पर टेंट, कुर्सी और टेबल तोड़ डाले. एक बाइक को भी नुकसान पहुंचाया गया.

थाना प्रभारी गौतम कुमार राय ने बताया कि इस मामले में दोनों पक्षों के कुल 25 से अधिक लोगों पर नामजद एफआईआर दर्ज की गई है. कुछ अज्ञात लोगों पर भी मामला दर्ज किया गया है.

मारपीट में घायल हुए अधिकतर लोग मसीही धर्म मानने वाले हैं. वहीं आदिवासी समाज के उरांव समुदाय के कुछ लोगों को भी चोटें आई है. बताया जा रहा है कि पुलिस की 2 घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद मामला शांत हुआ. इसके बाद देर रात दोनों पक्ष थाने पहुंचे.

आदिवासी समुदाय के लोगों की संख्या 100 थी. समाज का आरोप है कि जबरन धर्म परिवर्तन कराया जा रहा है. इसे और अधिक बढ़ावा देने के लिए कार्यक्रम रखा गया था.

दरूआ गांव में 80 घर उरांव जनजाति के लोग रहते हैं. हाल ही के दिनों में 10 परिवारों ने ईसाई धर्म स्वीकार कर लिया. इन्हीं की ओर से गांव में पहली बार क्रिसमस गैदरिंग का आयोजन किया था. आयोजन से पहले गांव के लोगों ने कहा था कि धर्म परिवर्तन करने वाले लोग अपना त्योहार अपने घरों में मनाएं. दावा किया गया कि कार्यक्रम के दौरान बाहर से भी बहुत सारे लोगों को आमंत्रित किया गया था. इससे स्थानीय लोग नाराज थे.

23 दिसंबर को डीजे की धुन पर दरुआ में क्रिसमस गैदरिंग मना रहे लोगों को आदिवासी समाज के लोगों ने रोक दिया था. वार्ड पार्षद जुगंती उरांव, कबुतरी, कलावती, रानी, फुलवसिया, शिवराज उरांव, योगेंद्र, उरांव, बृंदा उरांव ने बताया कि गांव के तेजु उरांव के घर पर क्रिसमस गैदरिंग का आयोजन किया जा रहा था. समाज के लोगों के मना करने पर मसीही समुदाय मानने वाले लोग उलझ गए थे.

वहीं, आयोजक तेजू उरांव, कैलाश उरांव, उपेंद्र उराव समेत कई लोगों ने बताया कि 200 के करीब महिला पुरुष लाठी-डंडों से लैस होकर पहुंचे और कार्यक्रम स्थल में तोड़फोड़ की.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here