एंबुलेंस नहीं मिलने पर पत्नी को कंधे पर लादकर अस्पताल ले जा रहा था पति, रास्ते में दम तोड़ा

इस घटना की सूचना मिलने के बाद जिला प्रशासन, स्थानीय पुलिस और आपदा प्रबंधन टीम के अधिकारी मौके पर पहुंचे और सड़क से भूस्खलन का मलबा हटाना शुरू कर दिया.

0
317

सोशल मीडिया में एक फोटो वायरल हो रहा है, जिसने प्रशासन की नींद उड़ा दी है. अब प्रशासनिक अधिकारी सफाई देते फिर रहे हैं. मामला महाराष्ट्र का है.

दरअसल महाराष्ट्र के नंदुरबार में सड़क खराब होने के चलते पति अपनी बीमार पत्नी को कंधे पर अस्पताल ले गया. लेकिन समय पर अस्पताल ना पहुंचने के चलते बीमार पत्नी की मौत हो गई.

नंदुरबार जिले के तलोदा के चांदसवाली आदिवासी गांव की रहने वाली शिल्दीबाई के पेट में अचानक से तेज दर्द शुरू हुआ. गांव के लोगों ने महिला को बड़े अस्पताल ले जाने की सलाह दी. अस्पताल गांव से करीब 30 किलोमीटर दूर था. खराब मौसम और खराब सड़क के चलते एम्बुलेंस गांव तक नहीं पहुंच पा रही थी.

ऐसे में पति अदल्या पाडवी ने बीमार पत्नी को बचाने के लिए उसे अपने कंधों पर उठा लिया और सरकारी अस्पताल पहुंचने के लिए कुछ दूर तक पैदल ही चला. लेकिन अस्पताल पहुंचने से पहले ही महिला ने अपने पति के कंधों पर दम तोड़ दिया.

इस दर्दनाक दृश्य को कुछ लोगों ने अपने मोबाइल पर भी कैद कर लिया. हालांकि जब तक कोई मदद पहुंचाता शिल्दीबाई की मौत हो गई थी. 

पुलिस अधिकारी के मुताबिक नंदुरबार के ढड़गांव क्षेत्र के चांदसवाली गांव की रहने वाली शिल्दीबाई पिछले कुछ दिनों से अस्वस्थ थी. बुधवार सुबह पेट में दर्द होने की शिकायत के बाद उसके पति ने उसे नजदीकी अस्पताल में ले जाने का फैसला किया.

अब प्रशासन इस मामले में अपनी सफाई दे रहा है. अधिकारी कह रहे हैं कि भारी बारिश की वजह से सड़क बंद थी. नंदूरबार के एसडीएम महेश पाटील ने कहा है कि भारी बारिश हुई थी. जिसके चलते रास्ते में भू-स्खलन हुआ और इसकी वजह से एंबुलेंस रास्ते में ही फंस गई. यही वजह थी कि उस शख्स को अपनी पत्नी को कंधे पर लादकर अस्पताल ले जाना पड़ा.

एसडीएम ने कहा कि क्योंकि एंबुलेंस फंस गई थी और बीमार महिला तक समय पर नहीं पहुंच सकी. उसका पति उसे लेकर अस्पताल पहुंचा लेकिन रास्ते में ही उसकी मौत हो गई.

पिछले कुछ सालों में देश के अलग-अग हिस्से में कई ऐसे मामले सामने आए हैं. ऐसा पहला मामला ओड़िशा से सामने आया था.

इसके बाद भी कई और मामले सामने आए. देखा गया कि कभी साइकिल से बांधकर, तो कभी कंधे पर लादकर लोगों को अपने परिजनों के शव ले जाने पड़े. अस्पतालों की ओर से एंबुलेंस देने से इंकार करने के भी कई मामले सोशल मीडिया में वायरल हुए.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here