नागालैंड में तीन नए जिलों का गठन, आदिवासी समुदायों की लंबे समय से थी मांग

कम से कम 11 जनजातियों ने नए जिलों की मांग की थी, लेकिन कैबिनेट उनमें से सिर्फ तीन पर ही विचार कर सकती थी, क्योंकि कुछ जिलों में सिर्फ एक जनजाति रहती है और उन्हें विभाजित नहीं किया जा सकता.

0
306

नागालैंड सरकार ने शनिवार को तीन नए जिले बनाए हैं जिसके बाद राज्य में ऐसे प्रशासनिक यूनिट्स की कुल संख्या 15 हो गई है.

उपमुख्यमंत्री यानथुंगो पैटन ने एक कार्यक्रम में पत्रकारों को बताया कि नागालैंड कैबिनेट ने त्सेमिन्यु, निउलैंड और चुमुकेदिमा जिलों के गठन का फैसला किया है.जहां त्सेमिन्यु उप-मंडल को कोहिमा जिले में से निकाला गया है, निउलैंड और चुमुकेदिमा को दीमापुर जिले से बाहर निकलकर अपग्रेड किया गया है.

उपमुख्यमंत्री ने यह भी कहा कि हालांकि कम से कम 11 जनजातियों ने नए जिलों की मांग की थी, लेकिन कैबिनेट उनमें से सिर्फ तीन पर ही विचार कर सकती थी, क्योंकि कुछ जिलों में सिर्फ एक जनजाति रहती है और उन्हें विभाजित नहीं किया जा सकता.

दीमापुर जिले में घसपानी -1 विधानसभा क्षेत्र के तहत दो जिलों के गठन के पीछे वजह के बारे में पैटन ने कहा, “चुमुकेदिमा को शहरी-ग्रामीण जिले के रूप में जिला बनाया गया है, जबकि निउलैंड सीमांतर इलाका है.”

इसके अलावा उन्होंने बताया की त्युएनसांग जिले के तहत शामतोर को एक जिले का दर्जा देने के लिए सैद्धांतिक रूप से सहमती के बावजूद, यह तब तक नहीं हो सकता, जब तक इलाके में रहने वाले आदिवासी समुदायों – यिमखिउंग, तिखिर और सेमा – के बीच सीमा का उचित सीमांकन नहीं हो जाता.

नए जिलों के आधिकारिक उद्घाटन के लिए सरकार जल्द ही तारीख तय करेगी.

इस बीच, पशुपालन और पशु चिकित्सा सेवाओं और महिला संसाधन विकास के सलाहकार और स्थानीय विधायक आर खिंग ने त्सेमिन्यु जिले की स्थापना के लिए मुख्यमंत्री नेफ्यू रियो और राज्य कैबिनेट की सराहना की, और कहा की ये फैसला रेंगमा आदिवासी समुदाय के लिए सबसे बड़ा क्रिसमस का तोहफा है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here