राजस्थान: आदिवासी जिलों के छात्र अपनी बोलियों में कर रहे हैं पढ़ाई

जनजातीय क्षेत्र विकास (TAD) जो मॉडल के पीछे कार्यवाहक एजेंसी है, ने कहा कि पिछले सितंबर से इस सिस्टम को रखा गया है, जिससे सीखने के परिणामों में महत्वपूर्ण सुधार हुआ है.

0
195

पहली बार राजस्थान के आदिवासी जिलों – बांसवाड़ा, बारां, डूंगरपुर और प्रतापगढ़ – के सरकारी स्कूलों में स्थानीय बोलियों-वागड़ी और सहरिया में प्राथमिक कक्षाओं तक भाषा और गणित का पाठ पढ़ाया जा रहा है.

यूनिसेफ द्वारा समर्थित इस परियोजना का उद्देश्य आदिवासी बच्चों के सीखने के परिणामों में सुधार करना है.

शिक्षा को समावेशी और सापेक्ष बनाने के लिए सबसे सामान्य शब्दावली को ध्यान में रखते हुए भाषा विशेषज्ञों द्वारा किताबों का मसौदा तैयार किया गया है. पाठ्यपुस्तकों को बैंगलोर स्थित प्रथम एनजीओ द्वारा विकसित किया गया है.

जनजातीय क्षेत्र विकास (TAD) जो मॉडल के पीछे कार्यवाहक एजेंसी है, ने कहा कि पिछले सितंबर से सिस्टम को रखा गया है, जिससे सीखने के परिणामों में महत्वपूर्ण सुधार हुआ है.

एक अधिकारी ने कहा, “इस प्रणाली का महामारी से कोई लेना-देना नहीं है क्योंकि आदिवासी बच्चों के बीच सीखने के परिणाम हमेशा एक चुनौती रहे हैं. यह देखते हुए कि उन्हें हिंदी में सब कुछ सीखने के लिए मजबूर किया जाता है जो कि सिर्फ एक कक्षा की भाषा है. इस पहल ने छात्रों और हम में विश्वास पैदा किया है. लगता है कि इससे उनके प्रदर्शन में काफी सुधार होगा.”

कार्यक्रम को चार घटकों में बांटा गया है. यूनिसेफ के पूर्व नीति योजनाकार और प्रबंध ट्रस्टी प्रथम एनजीओ के केबी कोठारी ने कहा, “पहला घटक घर पर वागड़ी और सहरिया भाषाओं में किताबें पढ़ाना है. इसके बाद सामुदायिक पुस्तकालय कार्यक्रम को बढ़ावा देना है ताकि छात्र शब्द चयन और सही ढंग से उच्चारण सीख सकें. बाकी के दो घटक स्कूलों में शिक्षकों के क्षमता निर्माण और प्रणाली की प्रभावी निगरानी के लिए टीएडी पर्यवेक्षकों के प्रशिक्षण से संबंधित हैं.”

अब तक 9,000 छात्रों के लक्ष्य के साथ दोनों भाषाओं और गणित की 40 किताबें तैयार की जा चुकी हैं.

आधिकारिक रूप से जोड़े गए छात्रों ने घटनाओं, दृश्यों और पात्रों का वर्णन करने की क्षमता में व्यापक सुधार किया है.

आदिवासी आबादी राज्य की आबादी का लगभग 14 फीसदी है जो कई समूहों में विभाजित है, जिनमें से किसी की भी प्राथमिक भाषा हिंदी नहीं है.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here